Sunday, February 26, 2017

ये है भारत की "गंगा-जमुनी" "तहज़ीब" और असली "इन्सानियत



"दोस्तों, "नफ़रतों" के "बादल" चाहें कितना भी "घुमड़-घुमड़" कर आयें, लेकिन जब "बरसते" हैं तो "इन्सानियत की बारिश" बनकर ही "बरसते" हैं।
जी हाँ, मामला कांठ थाना क्षेत्र के गाँव "अकबरपुर चंदेरी" का है इस गांव में एक "एसआई" ने भारत की "गंगा-जमुनी तहज़ीब" की बेहद "ख़ास" "मिसाल" पेश की है। दरअसल, इस गांव में एक मंदिर है, जहाँ शिवरात्रि के मद्देनज़र लोगों की भारी भीड़ पहुंचती है। इस मंदिर तक जाने वाले रास्ते का निर्माण कार्य चल रहा है अभी भी ये पूरी तरह बना नहीं है, और कई जगह से टूटा हुआ है।

शिवरात्रि के मद्देनजर गांव के लोग मंदिर जाएंगे और जलाभिषेक करेंगे, लेकिन मंदिर का रास्ता खराब होने से उन्हें परेशानी आएगी। मंदिर में आने वाले भक्तों को परेशानी ना हो इसलिए कांठ थाने में तैनात सब-इंस्पेक्टर "हारून ख़ान" ने ख़ुद ही "फावड़ा" उठाकर "मोर्चा" संभालते हुए रास्ते को सही करने की "कवायद" शुरू कर दी। सब इन्स्पेक्टर हारून ख़ान को फावड़ा चलाता देख आस-पास के लोग और दूसरे ग्रामीण हैरत में पड़ गए, उनके लिए पुलिस का यह "रूप" "चौंकाने" वाला था। सब- इन्स्पेक्टर को फावड़ा चलाते देख दूसरे लोग भी उनके साथ कंधे से कन्धा मिलाकर सड़क सुधार के कार्य में हाथ बंटाने लगे। पूरे रास्ते के गड्ढों को मिट्टी डाल कर टेल्स लगा कर सही किया गया। ज्ञात हो कि ये वही गाँव है जहाँ लाउडस्पीकर को लेकर पूर्व में "विवाद" हो चुका है, और उसी विवाद को "कंट्रोल" करने में उस समय के मुरादाबाद जिलाधिकारी की आँख में "गंभीर चोट" आयी थी, और उन्हें चिकित्सा के लियें चेन्नई भेजना पड़ा था।

"दोस्तों, सब-इन्सपेक्टर "हारून ख़ान" का ये कार्य दोनों ही रूप में "सराहनीय" है, एक तो वे अपनी "डयूटी" के प्रति "बेहद गंभीर, और "सतर्क हैं, दूसरे वो एक "मुस्लिम" हैं, और इस तरह से "मन्दिर" के रास्ते को अपने हाथों से "श्रमदान" देकर उन्होंने "इन्सानियत" की जो "मिसाल" पेश की है। वो "प्रशंसा" के क़ाबिल है।

"और हमारी हमेशा यही "कोशिश" रहती है कि समाज में कहीं भी कोई भी "अच्छा", और "इन्सानियत को ज़िन्दा" रखने वाला "काम" कर रहा है तो उसको हम अपनी "लेखनी" के द्वारा ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाने की कोशिश करते हैं, जिससे कि दूसरे भी उससे "प्रेरणा" ले सकें, और "इन्सानियत की मिसाल" क़ायम कर सकें। (धन्यवाद)

~~~~~~~~~~~~~~~

(लेखक - राशिद सैफ़ी "आप" मुरादाबाद)

संस्थापक/अध्यक्ष
*इन्सानियत वेलफेयर सोसाइटी*



मुरादाबाद: एसआई हारुन खान ने पेश की मिसाल, मंदिर जाने वाले रास्ते को ठीक करने के लिए उठाया फावड़ा

http://dhunt.in/20gc6?ss=wsp

via Dailyhun

0 comments:

Post a Comment